बुधवार, 10 अप्रैल 2013

नींद हुई नौ दो ग्यारह


-----------------
बडे सबेरे ,
नीम अँधेरे ।
सपनें की बस्ती में ,
मुन्नू लगा रहे थे फेरे ।
तभी पडी कानों पर दस्तक ---
कुकडूँ..कू...,
चीं..चीं..चूँ...चुक.चुक...।
सोये अब तक !!
छोडो चादर,
देखो बाहर ,
भैया आकर ।
सोया था जो साथ घनेरा ,
मित्र अँधेरा
,गया कभी का उठ कर ।
 दबा नींद के बिस्तर ।
पंछी देखो उडे चहक कर ,
नीले अम्बर ।
कलियाँ मुस्काई हैं खिल कर  
कर आई लो सैर हवा भी,
मीलों चल कर ,
भीनी-भीनी खुशबू लेकर ।
सुना ,
कुनमुनाए मुन्नू जी 
तुनके कुछ गरमाए ।
यह भी कोई बात कि ,
चाहे जो बेवक्त जगाए ?
आँखें मलते बाहर आए ,
जो टकराईं किरणें पहली,
धूप सुनहली ,
मोहक उजली ।
मुन्नू जी थे हक्के-बक्के ,
नींद हुई नौ दो ग्यारह ,
आलस के छूटे छक्के ।

9 टिप्‍पणियां:

  1. सुबह की खटपट जो नींद भागे चटपट ...बहुत सुन्दर रोचक रचना ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपके लेखन यह विस्तार देखकर दंग रह जाता हूँ दीदी.. बिलकुल बच्चों के बीच बच्चों सी कविता!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. हम अंकुर बाल पत्रिका निकालते हैं। अब यह नियमित निकलेगी। आप जुड़िएगा। जरूर

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही रोचक...मजेदार सी...मज़ा आ गया पढ़ के...

    उत्तर देंहटाएं